Monthly Archives: January 2013

Originally posted on Agniveer Fan:
  बाबुल की आन और शान हैं बेटी,   इस धरा पर मालिक का वरदान हैं बेटी,   जीवन यदि संगीत है तो सरगम  हैं बेटी,   रिश्तो के कानन में भटके इन्सान की मधुबन सी…

Posted in Uncategorized

Originally posted on Agniveer Fan:
स्वामी दयानंद कृत अमर ग्रन्थ सत्यार्थ प्रकाश पर रचना काल से ही स्वामी जी मान्यतायों के विषय में अनेक शंकाएं विभिन्न विभिन्न मतों के सदस्यों द्वारा समय समय पर प्रस्तुत की जाती रही हैं। स्वामी…

Posted in Uncategorized | Leave a comment

Originally posted on Agniveer Fan:
डॉ विवेक आर्य मित्रों – दामिनी के साथ जो कुछ हुआ वह अत्यंत दुःख की बात हैं और मनुष्य के पशुयों से भी बदतर व्यवहार करने का साक्षात् प्रमाण हैं। सभी में विशेष रूप से…

Posted in Uncategorized | Leave a comment