Agniveer Fan

 

ajd
 
 
 
Andrew Jackson Davis
1826-1910
American thinker comments on Swami Dayanand in his book Beyond the Valley 1885 page 383

I behold a fire that is universal — the fire of infinite love, which burneth to destroy all hate, which dissolve the all things to their purification.

Over the fair fields of America, — over the great land of Africa, — over the everlasting mountains of Asia, — over the wide empires and kingdoms of Europe, — I behold the kindling flames of the all-consuming, all-purifying, fire ! It speak at first in all the lowest places; it is kindled by man for his own comfort and progress; for man is the only earthly creature that can originate and perpetuate afire; even as he is the only being on earth that can originate and perpetuate words, so he is the first to start the fires of…

View original post 299 more words

Posted in Uncategorized

Agniveer Fan

bible

 Source :-ORIGIN AND GROWTH OF THE BIBLE

By Rev.JABEZ T.SUNDERLAND, America

Topics

1.Things Absurd

2.Historical Mistakes

3.Scientific Errors

4.Exaggerations

5.Childish Representations of God

6.Morally Degrading Representations of God.

7.Inculcation of what is Wrong.

8.Summing up

9.Driving Men into Infidelity

10.Something Wiser and Better

Let us pass on now to notice other things in the Bible which it is impossible to reconcile with the theory of infallibility. Concerning these I shall be as brief as possible, citing only illustrations enough to make my meaning clear.

1.Things Absurd

The Bible contains many things intrinsically absurd. For example, the statement that the first woman was made of a rib taken out of the firstman’s side; the accounts of a serpent, and of an ass, talking; the stories of Jonah living three days within a fish (Matt. xii. 40, common version, says a whale), and of Nebuchadnezzar eating grass like an ox for seven…

View original post 3,601 more words

Posted in Uncategorized

Agniveer Fan

bible

Source :-ORIGIN AND GROWTH OF THE BIBLE

By Rev.JABEZ T.SUNDERLAND, America

Topics

 1. Is the Bible infallible?

2. Sixty-six Infallible Books

3. Contradictions in the Bible

4.Different Forms of the Ten Commandments

5. Contradictions in the Gospels

Part-1                     

Is the Bible infallible? 

Or, to use a word that is preferred in some quarters Is the Bible inerrant?Hardly any questions of our day are being asked by so many persons as these. Hardly any are being asked so earnestly. What answer has scholarship to make?

Happily, so far as biblical scholarship is independent, honest, and competent (and no other is worth considering),its answer to these questions is at last becoming clear, even if it has not been clear in the past.Such scholarship no longer hesitates to subscribe to the language of Professor Briggs when he says: “So far as I can see, there are errors in the scriptures that…

View original post 4,237 more words

Posted in Uncategorized

Agniveer Fan

beti
 
बाबुल की आन और शान हैं बेटी,
 
इस धरा पर मालिक का वरदान हैं बेटी,
 
जीवन यदि संगीत है तो सरगम  हैं बेटी,
 
रिश्तो के कानन में भटके इन्सान की मधुबन सी मुस्कान हैं बेटी,

जनक की फूलवारी में कभी प्रीत की क्यारी में,

रंग और सुगंध का महका गुलबाग हैं बेटी,

त्याग और स्नेह की सूरत है,

दया और रिश्तो की मूरत हैं बेटी,

कण– कण है कोमल सुंदर अनूप है बेटी,

ह्रदय की लकीरो का सच्चा रूप  हैं बेटी ,

अनुनय,विनय, अनुराग है बेटी,

इस वसुधा और रीत और प्रीत का राग है बेटी,

माता–पिता के मन का वंदन है बेटी,

भाई के ललाट का चंदन है बेटी.

SAVE GIRL CHILD-SAVE HUMANITY- A DRIVE BY AGNIVEER

View original post

Posted in Uncategorized

Agniveer Fan

स्वामी दयानंद कृत अमर ग्रन्थ सत्यार्थ प्रकाश पर रचना काल से ही स्वामी जी मान्यतायों के विषय में अनेक शंकाएं विभिन्न विभिन्न मतों के सदस्यों द्वारा समय समय पर प्रस्तुत की जाती रही हैं। स्वामी दयानंद जी महाराज सत्यार्थ प्रकाश की भूमिका में स्वयं लिखते हैं की

यद्यपि आजकल बहुत से विद्वान प्रत्येक मतों में हैं,वे पक्षपात छोड़ सर्व तंत्र सिद्धांत अर्थात जो जो बातें सब के अनुकूल सब में सत्य हैं, उनका ग्रहण और जो एक दूसरे से विरुद्ध बातें हैं, उनका त्याग कर परस्पर प्रीति से वर्ते वर्तावें तो जगत का पूर्ण हित होवे। क्यूंकि विद्वानों के विरोध से अविद्वानों में विरोध बढ़ कर अनेक विध दुःख की वृद्धि और सुख की हानि होती हैं। इस हानि ने, जो की स्वार्थी मनुष्यों को प्रिय हैं, सब मनुष्यों को दुःख सागर में डुबा दिया हैं। “

स्वामी दयानंद जी के इस आशय…

View original post 700 more words

Posted in Uncategorized | Leave a comment

Agniveer Fan

deepak

डॉ विवेक आर्य

मित्रों – दामिनी के साथ जो कुछ हुआ वह अत्यंत दुःख की बात हैं और मनुष्य के पशुयों से भी बदतर व्यवहार करने का साक्षात् प्रमाण हैं। सभी में विशेष रूप से युवाओं में इस घटना को लेकर अत्यंत रोष हैं। सभी की यही मांग हैं की इन दरिंदो को जल्द से जल्द फाँसी पर लटका दिया जाये, जिससे की औरों को भी यह सबक मिले की अगर तुम ऐसा घृणित काम करोगे तो उसका फल क्या होगा। यहाँ तक तो दंड की बात हुई परन्तु क्या इन हत्यारों को फाँसी पर चढ़ा देने से भविष्य में यह निश्चित हो जायेगा की किसी निरपराध के साथ ऐसा दुष्कर्म कभी नहीं होगा? क्या यह निश्चित हो जायेगा की सब सुधर जायेगे? पाठकों के मन में कही न कही यह बात जरुर आ रही होगी की नहीं भविष्य में ऐसा न हो उसके लिए व्यापक स्तर पर प्रयास करने…

View original post 573 more words

Posted in Uncategorized | Leave a comment

गोरक्षा आदि विषयों पर आचार्य आर्य नरेश का व्याख्यान

व्यख्यान की विशेषताएं

(१) वेदों में गोहत्या निषेध |
(२) वेदों की गलत व्याख्याओं का सप्रमाण खंडन |
(३) भारतीय सविंधान में गोरक्षा का उपदेश |
(४) गोपदार्थों के वैज्ञानिक  लाभ |
(५) नेताओं का स्वार्थ, आदि |

Posted in arya naresh, आर्य नरेश, गोरक्षा, वेद, सविंधान, constitution, save the cow, Ved